कई बार उम्मीदें ज़रूरत से ज़्यादा बोझ डाल देती हैं। हर आंधे घंटे पर कोई फोन पर ह…

कई बार उम्मीदें ज़रूरत से ज़्यादा बोझ डाल देती हैं। हर आंधे घंटे पर कोई फोन पर होता है, उसकी कहानी अर्जेंट भी होती है और दर्दनाक भी, पर मैं तो अकेला ही होता हूं। सबकी बात इसी से ख़त्म होती है कि आप ही से उम्मीद है। मैं किससे उम्मीद करूं। मैं किसकी तरफ़ देखूं। ना कहते कहते अपराध बोध से घिर जाता हूं। एक तो बोलने के लिए बुलाने वालों ने रूला दिया है और दूसरा अपनी व्यथा सुनाने वालों ने। न तो क्षमता है न संसाधन। हम बहुत सीमित संसाधन में काम करते हैं। किस किस की स्टोरी करूँ । फोन पर सुनते सुनते कान में दर्द हो गया है। व्हाट्स अप खोलो तो लोग पहले से घेरने के लिए मौजूद रहते हैं। रोज़ दस से पंद्रह लोग अपनी कहानी लेकर मिलने चले आते हैं। पता नहीं यह किस वजह से हो रहा है। क्या बाकी चैनलों में पत्रकारों ने लोगों से मिलना बंद कर दिया है? क्या वहां लोगों की स्टोरी नहीं हो रही है? कई बार ऐसे लोग मिलते हैं जिनकी स्टोरी अखबारों में कवर हो चुकी होती है, मगर कोई असर नहीं होता। आज एक किसान चुरू से चले आए। बीस दिन से उनके साथी धरने पर हैं। मैं घड़ी देखता हुआ भागा जा रहा था। उसके पहले चार लोग दो सौ पन्ने का दस्तावेज़ लेकर घेरे हुए थे। एक- एक पेज लेकर समझाने लगे। एम्स के डाक्टर जैसी हालत हो गई है। मुझे पता है कि आपको उम्मीद है, मुझे यह भी पता है कि मैं सबकी उम्मीद पूरी नहीं कर सकता। ना कह देता हूं, मगर ना कहने की प्रक्रिया इतनी सामान्य नहीं है। कहते हुए भी बुरा होता है, दूसरी तरफ की आवाज़ मायूस होने लगती है और फोन बंद करने के बाद नींद से लेकर हंसी तक ग़ायब हो जाती है। थोड़ा सोचिएगा। हो सके तो मुझे कुछ दिनों के लिए अकेला छोड़ दीजिए। अपनी लड़ाई ख़ुद लड़िए। मैं भी हारी हुई लड़ाई लड़ रहा हूं. आप भी लड़िए।अपनी उम्मीदों से मुझे अपराधी मत बनाइये। मैं इतनी उदासी नहीं ढो सकता। इस वक्त जब यह लिख रहा हूँ महाराष्ट्र से आठ लोग पिछले दो घंटे से बाहर इंतज़ार कर रहे हैं। मुझे पता है आप इसे आशा और निराशा के फ्रेम में ही देखेंगे। उसकी बात नहीं है।

23 thoughts on “कई बार उम्मीदें ज़रूरत से ज़्यादा बोझ डाल देती हैं। हर आंधे घंटे पर कोई फोन पर ह…”

  1. Ravish ji … aap se logo ki ummid hain.. par aapane sahi kaha… hume apni ladhai khud ladhani chahiye… hamare pass sansadhano ki kami hain.. hamri baat sunane wala koi nahi… action le to kya le ?

  2. Sir aisa nahi hai, ye to chalta rahta hai hamesha se, jyada hota hai to change hota hai, aap jaise kitne log jinda kiye rahte hai is ladai ko, sukriya, we are proud of people like you

  3. Jab bhi Non Performing Asset (NPA) ki baat aati hain, naa jaane Jaitley ji ka chehra kyun mere samne aa jata hain, koi inhe bhi write off karo bhai, desh ki balance sheet ki laga di hain inhone…

  4. I would suggest you think about starting your own news channel, and hire good young journalist, and do stories you are not able to do today. Think about it.

  5. I really wonder these days whenever I watch any Indian news channel that how most of them have unnecessary debates on useless topics. No one wants to talk about the pain of people or how to make their lives better. Hope this will change soon.

  6. GDP m girwat m sarkar ko ghera apne janab.world bank,moody’s sb ko denied kr dia.but isko denied nh kr skoge..q k isi k ankde s kosa..aur gujrat m ja k jitna prachar ap krre koi journalist nh krra..apki smjh skta hu bhai congress m h..to thoda to bnta h.. bagho m bahar hai,GDP m ay uchal hai

  7. रविश ये न करना कभी आप मिसाल हो और उम्मीद हो।
    I understand you need space and a bit of Balance(work life) but expectations & hope -that’s ur forte.
    भाइजी लगे रहिए।
    (एक क्रिटिक और एक भाई)

  8. सर जो सच बोलते हैं आलोचना उन्हीं की होती है… जिन्होंने अपने जीने के सिद्धांत तलवे चाटना और पैसे इकट्ठा करना बना रखा है उनकी कौनसी आलोचना….
    लोग बूरा सिर्फ जिंदा लोगों के लिए बोलते हैं… मरे हुए लोगों के लिए तो सब अच्छा बोलते हैं..
    पत्रकारिता कि क्षेत्र में आप जिंदा हो सर बाकी सारे पत्रकार के बारे में मुझे नहीं पता…
    I Love NDTV only due to you.
    सिर्फ एक ही न्यूज़ चैनल ऐसा है जिस पर खबरें देखने का मौका मिलता है बाकी तो सारे एडवर्टाइजमेंट ही करते हैं कभी कभी नहाने के साबुन कभी कपड़े धोने के लिए डिटर्जेंट पाउडर और बाकी टाइम में सरकार का प्रचार।

  9. When it is fight against system then how can one go to the media that all-time praising the system. So they r already tired of injustice accounting to them so they came for the opposition part of media who can deliver his problem to govt to be resolved

  10. Wah sir aap dil jit lete hain aap behad khubsurat insaan hain. Aap he wo vyakti hain jo sach mayane mein mudde uthate hain jinka lena dena uss samaj se hai jo iss ummid mein mehnat karta hai ki aane wala kal acha hoga or jb aap ismein kuch bole dete hain to log dum feel karte hain. Haan aap hain Doctor sach mayane mein aap doctor hain.

  11. Sir…people approach you bcoz they see human inside you…They feel that if they share problems wid u, their infliction will come to an end…Please help them as u r their only hope….

  12. I can understand your feeling sir.
    Because you are a great and honest journalist
    Is liye log aap se ummed lagaye hue hai baaki to sab godi media ban chuki hai.

  13. to aur jaye kha ravish g , mujhe to aur koi dikhta v nhi primetime ke bina, channel badl kr hasi aane lgti ki je media wale hindu muslim krte rehte hai ,,,,jab prime time dekhta hu to dar lgta hai ,,sahi khabar dekh ke dar lgta hai ,,ke je desh meim kya kya ho rha haii,,,fir v dekhte umeed abhi baki hai app jaise patrkaro se ravish g
    –shukriya dil se

  14. Ravish kumar ji aap kismat wale hain.jab log aapse insaaf ki guhar karte hai hosake to unse poora insaaf zaroor karo aur unhe na jhidkao.Aur jitna hosake inki madad karo aur sone se pehle khuda se maafi mango ke koi kasar baki rahi ho to maaf karde.Beshak ye rutba khuda sirf imandaron ko hi deta hai.reply dena

  15. Sir! Himnat mat harna aap ko majboor aur maayus logo ki aavaj banakar Allah, Ishwar ne is bharat me janam deke bheja he!!! Apko god ne is layak banaya he tabhi to log apse ummid rakhte he!!!

  16. u r great sir but aap chinta na karo bhagwan ke ghar der h andher nahi aur apki feelings mein samjh gya shayad isi bat ki taklif mujhe v h ki india me itane channel news ko kyu banaya gaya isase to acha hota ki sirf dd national hi hota

  17. Please don’t say no, people might come to you as last hope sir, you can post pone the meeting, but just give them hope that their voice will be heard. Beli eve in God, he will give you all courage and strength to continue on the path of truth. May God bless all

  18. Sir agar Gandhi G ne haar maan li hoti to shyad desh aazad nehi hota
    We shall overcome….. humain bachpan main ese he nehi sikhate hain sir
    Aap bahut se logon ki umeed hain
    Bs date rahiyae sir
    Ishwar hai abhi dunia main n please be happy k us ne aap ko is kabil smjha hai k aap oron ka dard sun payein
    Sare dukh to Baba Nanak g bhe door nehi kr paye the apne life time main

  19. Ravish Kumar,
    You are special. You are fighting for justice not to win. Yes you are fighting lost battle but the day will come win the lost battle. You are the ray of hope for those living in darkness. Wining and losing is part of the games. But fighting for justice is provide real satisfaction which is priceless. Keep fight because we born to fight .

  20. NDTV की गुलामी छोड़ दीजिये प्रणय रॉय और उनकी भ्रष्ट कारोबारी साथी भी आप पत्रकार है आप इन मजलूमो की लड़ाई लड़े और फायदा इन्हें देवे न की NDTV jlजेसे कोर्पोरेट चैनल के लिए या अन्य किसी के लिए लोग उम्मीद लेकर आ रहे है टीम बनाये देशभर में और काम करे उखड फेंके इस व्यवस्था को।।
    बाहार आये अपने सुविधा के क्षेत्र से और आगे बढ़े है हमारे जेसे लोग आपके साथ है।

Comments are closed.