25 thoughts on “Happy Dusshtehra!!”

  1. क्यों ना दशहरे पर रावण का पुतला फुंकने के बजाए रामरहीम,आसाराम,फलहारी बाबा जैसे कुकर्मी बाबाओ के पुतले देश के हर कोने मे जलाए..ये भी कोई रावण से काम नहीं है।

  2. एक बात याद आई हे कुछ दिनो पहले की हे किसी कपिल सिब्बल (कोंग्रेस के नेता ) नाम के व्यकती की जिस पे उसे बड़ी वाह वाही मिली थी कपिल सिब्बल ने हिन्दू ओ को नकली हिन्दू और हिन्दू भगवा आतंकवादी होते हे एसा लम्बा भासन दिया था , हिन्दू अगर नकली हिन्दू होता हे हिन्दू भगवा आतंकवादी होता हे तो भाई यो पप्पु गुजरात के द्वारकाधिस मन्दिर यानी नकली हिन्दू और हिन्दू भगवा आतंकवादी ओ के मन्दिर मे किस कारन गया ये बात सोच ने लायक हे गुजरात के लोगो को , पप्पु राम को नहीं मानता पप्पु कहता हे की मन्दिर व्ही ज़ाते हे जो ल्डकिया छेडते हे तो फीर पप्पु गुजरात के मन्दिर मे कोंग्रेस के चाहको की मा बहन बीवी बचियो को छेड ने आया था क्या हिन्दू आतंकवादी यो के मन्दिर मे …. सोचो सोचो

  3. मर्यादा पुरुषोत्तम श्रीराम जी के नाम का चंदा चुराकर खाने वालों को छोड़कर सभी देशवासियों को दशहरे की हार्दिक शुभकामनाएं 🤗

  4. रावण बनना भी कहां आसान…
    रावण में अहंकार था, तो पश्चाताप भी था
    रावण में वासना थी,तो संयम भी था
    रावण में सीता के अपहरण की ताकत थी,तो बिना सहमति पराए स्त्री को स्पर्श न करने का संकल्प भी था
    सीता जीवित मिली ये राम की ताकत थी,पर पवित्र मिली ये रावण की मर्यादा थी
    राम,तुम्हारे युग का रावण अच्छा था..
    दस के दस चेहरे, सब “बाहर” रखता था..
    महसूस किया है कभी उस जलते हुए रावण का दुःखजो सामने खड़ी भीड़ से बार बार पूछ रहा था…..
    “तुम में से कोई राम है क्या?”

  5. हमें भी उधार वसूलना आता हैं:जब तक मोदी जी 15 लाख ₹ हम सबके खाते मे नही डालते
    उनको PM पद से उतरने नही देंगे
    भले ही 2029 क्यों ना आ जाए!

  6. उसे अगर वोट ही लेना होता तो वो कभी नोटबंदी नहीं करता।
    उसे वोट ही लेना होता तो वो कभी भी GST नहीं लाता।
    उसे वोट ही लेना होता तो वो कभी भी तीन तलाक बैन नहीं करता।
    उसे वोट ही लेना होता तो वो कभी सब्सिडियाँ ख़त्म नहीं करता,
    उसे वोट ही लेना होता तो वो बीफ बैन नहीं करता,
    उसे वोट ही लेना होता तो वो अलगाववादियों के जेबें भर रहा होता।

    उसे वोट नहीं लेना हैं,वोट तो पहले भी बहुतो को दिये हैं पर मिला क्या ??
    जिस देश में भारत माता की जय बोलने पर विवाद हो जाये,
    जिस देश में गौ मांस खाने की हठ दिखाई दे,
    जिस देश में पाकिस्तान ज़िंदाबाद के नारे लगते हो,
    जिस देश में सुप्रीम कोर्ट के फैसलो को खुली चुनौती मिले,

    ऐसे देश में कौन वोट लेना चाहेगा??

    ये तो उसने एक मशाल जलाई हैं मिशाल बन जाने के लिए,ताकि उसके बाद हम रोये उसे याद करके।

    खुशनसीबी सिर्फ एक बार दरवाजा खटखटाती हैं,परन्तू बदनसीबी तब तक दरवाजा खटखटाती हैं जब तक दरवाजा खुल ना जाये।

    जागो,
    चैन से सोना हैं तो जागो वरना पछताओगे,ये चला गया तो
    रोहिंग्या भारत में नहीं तुम्हारे घरो में रह रहे होंगे,
    तिरंगे पर गाय काटी जाएँगी,
    दुर्गा का अपमान और महिषासुर दिवस मनाये जायेंगे।

    जागो,
    जय हिंद
    जय जय हिन्दुस्थान !

  7. 【 सिर्फ एक #सवाल है, इसे #धर्म से ना जोड़ा जाए 】
    ••••
    #रावण बुरा होता तो, सिता का #बलात्कार करके उसकी हत्या कर देता,
    और #राम अगर अच्छा होता तो, सिता को #गर्भवती करके छोड नहीं देता..!!

    रावण दहन बंद करो और आज से ही, दिमाग में राम दहन शुरू करो..!!
    【 इसे सिर्फ #वव्यंग के रूप में देखे 】

  8. #Economy…गलत हाथों में चली जाए तो कुछ इस तरह से #अर्थव्यवस्था……चलती है जैसे…
    #मोती_G 🎯🎯 तीर चला रहे हैं

  9. अब 56″ में 20″ की कमी हो गई है।

    56″ का मतलब है असली मर्द।- अपनी जुबान पर टिकने वाला।
    प्राण जाये पर वचन ना जाये। चाहे कोई भी कारण हो।
    ध्यान दें-
    1- चुनाव से पहले की जुबान- GST देश को बर्बाद कर देता।
    चुनाव से बाद की जुबान- GST के बिना देश का विकास संभव नहीं है

    2- चुनाव से पहले की जुबान-1 जवान के बदले 10 पाकिस्तानी जवान
    चुनाव से बाद की जुबान-
    गले लगा कर ही समस्या का समाधान किया जा सकता है।

    मई 2014 से जुलाई 2017 के बीच- शहीद भारतीय जवान- 291
    और मारे गये पाकिस्तानी सैनिक व आतंकवादी – 271 ( सर्जिकल स्ट्राइक) जोड कर।
    जिसमे भारत के लिए सबसे अच्छा महिना जून 2017 रहा है जिसमें 43 आतंकवादी मरे और 13 जवान शहीद हुए। व सर्जिकल स्ट्राइक भी एक बडी कामयाबी रही ।
    परन्तु जब मई 2014 से बात की जाये तो 56″ में 20″ कम ही नजर आते हैं।

    3- चुनाव से पहले की जुबान- 2 करोड रोजगार प्रति वर्ष देने का वादा किया था।
    चुनाव से बाद की जुबान-
    रोजगार पिछले 10 वर्ष के सबसे बुरे दौर से गुजर रही है।
    विफलता को छुपाने के लिए स्वरोजगार की बात की जा रही है।
    स्टार्ट अप इन्डिया की हालत गंभीर है।
    प्रधानमन्त्री कौशल योजना मे ट्रेनिंग किये 5 लाख युवाओं में से सिर्फ 10 हजार को ही काम मिल पाया।(डाटा- 2016-17)

    4- चुनाव से पहले की जुबान- ट्रेन दुर्घटना ना हो इसके लिए बेहद गंभीर कदम उठाने की बात करते थे।
    चुनाव से बाद की जुबान- ट्रेन दुर्घटना में 150% की वृद्धि हुई- और- सभी घटनाओं में आतंकवादियो की साजिश, विरोधियों का हाथ व खराब पुरानी व्यवस्था व पटरियों की हालत पर इल्जाम लगा कर बस अपनी जिजिम्मेदारी से पल्ला झाड दिया गया।

    आगे भी 16 और मुद्दे है
    जल्द ही उस पर भी बात की जायेगी।

    अब 56″ में 20″ की कमी हो गई है।

    56″ – 20″ = 36″

  10. रावण दहन पर मोदी जी ने तीर मारा रावण को, मगर तीर को मालूम था, कहां है रावण, और तीर मोदीजी के हाथ मे जा रूका। तीर को भी संदेह नही है कि रावण कौन है । तीर भी निशाने पर रूका।

  11. जिसको बदलना है अपनी सोच बदले. प्रधानमंत्री तो हम बदलने नहीं देंगे..| कब 2019 आये हम मोदी जी को वोट करे |

  12. जिसको बदलना है अपनी सोच बदले. प्रधानमंत्री तो हम बदलने नहीं देंगे..| कब 2019 आये हम मोदी जी को वोट करे |

  13. ये फोटो देश के सभी नेताओ के लिये बननी चाहिये !
    समस्य एक दिनं में नासूर नहीं बनती !
    बबुल का पौधा एक दिनं में पेड नहीं बनता !!
    जो अपने को राजनेता बोलता हैं !
    क्या आज रावण हैं !!

  14. બધા ને ખબર છે કે મહાકાળી નુ સેવઉસળ એટલે સર્વ શ્રેષ્ઠ છતા લોકો રતનપુર નુ ખાવા જાય છે આવુ કેમ?

    “બધા જાય એટલે આપણે પણ જવુ પડે”…😂😂😂.

    મોદી નુ પણ એવુ જ છે..બધા વિરોધ કરે એટલે આપણે પણ કરવા નો…

    વડોદરા વારા ડાકોર ચાલતા જાય-ડાકોર વારા પાવાગઢ, પાવાગઢ વારા- અંબાજી અને અંબાજી વારા શેરડી 😀😀😀

    લોકો ને ભગવાન પર ભરોસો નથી. ગુજરાતી ગજની જેવા મોદી પર ભરોસો નથી પણ હા રાવલપીંડી ના ચાહક રાહુલ પર ભરોસો છે.

    સમોસા આપે તો ચટણી માગે.
    પાણી પૂરી આપે તો ચાઈનીઝ માગે.

    કોગ્રેસ હતી ત્યારે ભાજપ માગતા હતા.હવે ભાજપ છે ત્યારે કોગ્રેસ માગે છે.

    પાછા કે અમે ગુજરાતી લહેરીલાલા😍😍

    પહેલી વાર કોઈ વડાપ્રધાન સંસદ મા જતી વખતે મંદિર મા જતો હોય એવી ફીલીંગ લઈને આવ્યો છે.

    ” કદર કરો મોદી ની નહી તો ……….”

    ” ચાણોદ ની જગ્યાએ કોઈ કબર મા દફન થઈ જશો”

  15. બધા ને ખબર છે કે મહાકાળી નુ સેવઉસળ એટલે સર્વ શ્રેષ્ઠ છતા લોકો રતનપુર નુ ખાવા જાય છે આવુ કેમ?

    “બધા જાય એટલે આપણે પણ જવુ પડે”…😂😂😂.

    મોદી નુ પણ એવુ જ છે..બધા વિરોધ કરે એટલે આપણે પણ કરવા નો…

    વડોદરા વારા ડાકોર ચાલતા જાય-ડાકોર વારા પાવાગઢ, પાવાગઢ વારા- અંબાજી અને અંબાજી વારા શેરડી 😀😀😀

    લોકો ને ભગવાન પર ભરોસો નથી. ગુજરાતી ગજની જેવા મોદી પર ભરોસો નથી પણ હા રાવલપીંડી ના ચાહક રાહુલ પર ભરોસો છે.

    સમોસા આપે તો ચટણી માગે.
    પાણી પૂરી આપે તો ચાઈનીઝ માગે.

    કોગ્રેસ હતી ત્યારે ભાજપ માગતા હતા.હવે ભાજપ છે ત્યારે કોગ્રેસ માગે છે.

    પાછા કે અમે ગુજરાતી લહેરીલાલા😍😍

    પહેલી વાર કોઈ વડાપ્રધાન સંસદ મા જતી વખતે મંદિર મા જતો હોય એવી ફીલીંગ લઈને આવ્યો છે.

    ” કદર કરો મોદી ની નહી તો ……….”

    ” ચાણોદ ની જગ્યાએ કોઈ કબર મા દફન થઈ જશો”

  16. Kitna bhi logo ko bhadkane ka try karlo congress wapas nahi ayegi ….Ha ha ha …Hame Gandhi family nahi chahiye … jo imandar hoga wahi deserve karega ….

Comments are closed.